हैलो! कैसे हो दोस्तो, मैं सपना एक बार फिर से एक नई कहानी लेकर हाजिर हुई हूँ और आशा करती हूँ कि आपको ये सच्ची घटना भी पसंद आएगी.
जैसा कि आपको पता है कि मैं राजस्थान से हूँ और आप मेरे से वाकिफ हैं तो ज्यादा टाईम न लेते हुए आपको अपनी कहानी बताने की कोशिश कर रही हूं और सोचती हूँ कि आपको मेरी ये कहानी भी पसंद आएगी.

मैं अब तक 5-6 बार चुदाई करवा चुकी थी. मैंने ये चुदाई अपने जीजा के साथ ही करवाई थी और ये सब शादी से पहले ही हो चुकी थी. पहले दिन एक बार ही चुदी थी. फिर दूसरे दिन फिर एक बार और उसके बाद रात में चार बार. हर बार सेक्स का अलग-अलग अनुभव मिला.

हाँ, पर अब तक केवल जीजाजी के साथ ही सेक्स किया था किसी और के साथ नहीं. जीजा के साथ मेरी पिछली चुदाई कहानी थी
जीजा का ढीला लंड साली की गर्म चूत
तीन बार जयपुर में और फिर मेरे जीजाजी जब मेरे गाँव आए थे तब किया था. उसके बाद कई दिनों तक सेक्स नहीं किया लेकिन मेरी सहेली के साथ जरूर लेस्बियन सेक्स किया और उसे भी सेक्स का अनुभव सिखाया.

उसके दो साल बाद मेरी शादी फ़िक्स हो गई. तब मुझे चिंता सताने लगी कि अपने पति को सील के बारे में कैसे बताऊँ. कहीं उसे पता चल गया तो क्या होगा? लड़का किसी से भी सेक्स कर ले फिर भी उसका पता नहीं चलता मगर लड़की एक बार चुदाई करवा ले तो उसका पता चल जाता है. मेरे सामने भी अब यही समस्या थी.

मैंने जीजाजी से बात की तो एक बार तो उन्हें भी समझ में नहीं आया पर फिर वो बोले कि मैं कुछ करता हूं. शादी में जीजाजी आए और बड़ी धूमधाम से शादी हो गई.

हमारे यहां शादी में दुल्हन के साथ कोई एक आदमी जाता है जो कि दुल्हन को दो दिन के बाद वापस लेकर आ जाता है. मेरे साथ जीजाजी गए थे. शाम को मैंने सिर दर्द की शिकायत की तो जीजाजी ने मुझे एक टेबलेट खाने को दी और कहा कि ये खा लो जिससे कि तुम्हें मासिक धर्म शुरू हो जायेगा और इसके साथ ही तुम थोड़ा सा नाटक भी कर लेना. मैंने भी ये सोच कर गोली खा ली कि किसी तरह तो इस चिंता से छुटकारा मिले.

गोली खाने के कुछ समय बाद ही मेरी चूत से गन्दा खून निकलना शुरू हो गया. मैंने वहां पर किसी लड़की को ये बात बताई और उससे कहा कि वो मुझे पैड लाकर दे. उसने मुझे पैड लाकर दे दिया और फिर मैंने पैड लगा लिया. अब मुझे अपनी मुश्किल थोड़ी आसान लगने लगी थी.