मस्तराम के सभी पाठकों, खासकर हॉट भाभी की चूत को मेरा प्यार और लंडवत प्रणाम.

दोस्तो, मेरा नाम करन सिंह राजपूत है और मैं पटना का रहने वाला हूँ. वैसे तो मैं पटना में सोशल मीडिया एक्सपर्ट के रूप में एक कंपनी में कार्यरत हूँ. मैं बचपन से ही भाभियों पर मरा करता हूँ. अब तो पार्ट टाइम भाभी और लड़कियों को खुश करने का काम करता हूँ. या यूं कहें कि कॉलबॉय का काम करता हूँ, बदले में दोनों तरफ का काम बन जाता है. महिलाओं को नया लंड का स्वाद मिल जाता है, तो मुझे कुछ पैसे मिल जाते हैं.

मैं अब तक कई महिलाओं को उनके घर पर जाकर चोद चुका हूँ. खासकर वैसी महिलाओं को, जिनके पति बिजनेस के सिलसिले में शहर या देश से बाहर रहते हैं.

मैं अन्तर्वासना का पिछले नौ साल से पाठक हूँ. आज सोचा कि क्यों न अपनी सेक्स कहानी भी अन्तर्वासना के पटल आप सभी के साथ साझा की जाए. आइये जानते हैं कि कैसे मैंने पहली बार शालिनी भाभी को अपने लंड पर नचाया और उनकी प्यासी चूत में लंड डालकर कोहराम मचा दिया.

दोस्तो, मेरे जॉब के मुताबिक़ कम्पनी कभी कभी दूसरे शहरों में किसी इवेंट के दौरान भेज देती है, जहां रहने खाने का व्यवस्था क्लाइंट की तरफ से होता है.

पिछले साल एक राजनैतिक पार्टी के प्रशिक्षण शिविर को कवर करने के लिए कंपनी ने मुझे राजगीर भेजा. बेहद ही सुन्दर मनोरम छटा वाला छोटा सा नगर राजगीर, जहां के एक बड़े अंतराष्ट्रीय हॉल में मीटिंग चल रही थी. मैं कम्पनी के कैमरे से अपने लिए जरूरी फोटोग्राफ्स उतार रहा था.

अचानक पहली पंक्ति में बैठी एक भाभी जी के ऊपर मेरी नजर पड़ी.
भाभी जी क्या माल थीं … मैंने ऊपर से नीचे तक भाभी के बदन का एक्स-रे कर दिया. भाभी का भरा पूरा बदन, बड़ी-बड़ी चूचियां मुझे पागल कर रही थीं.

मुझसे रहा नहीं गया. मैंने अचानक ही अपने कैमरे से भाभी का एक सिंगल फोटो ले लिया. भाभी जी ने मुझे फोटो लेते हुए देख लिया और पास में बुलाया.
भाभी के बुलाने से मेरी तो गांड फट रही थी कि कहीं डांट न दें.

लेकिन नजदीक जाने पर भाभी ने अपना पिक देखने के लिए मुझसे कहा.