मेरे एक दोस्त की शादी हुई. मैंने उसकी नयी नवेली दुल्हन को चोदा. यानि कुंवारी भाभी को चोदा. यह कैसे सम्भव हुआ? मेरी सेक्सी कहानी पढ़ कर पता लगाएं.

बात लगभग 10 वर्ष पूर्व की है, वैसे तो मेरा परिवार इंदौर का रहने वाला है. पर तब मुझे मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा जिले में एक कंपनी में दवा प्रतिनिधि की नई नौकरी मिली थी. इसलिए मैं वहाँ पर एक किराए का घर लेकर रहता था और अपनी कम्पनी के ऑफिशियल टूर में हर माह 4 दिन बालाघाट और 3 दिन सिवनी जाया करता था.

चूंकि तब कम्पनी से होटल में रुकने का पैसा बहुत ज्यादा नहीं मिलता था इसलिए मैं एक दूसरी कंपनी के दवा प्रतिनिधि दोस्त मुकेश कुमार जो कि दरभंगा बिहार से बालाघाट में नियुक्त था, के साथ उनके घर में रुकता था और जब वो छिंदवाड़ा आता तो मेरे घर ही रुका करता था. हम दोनों साथ में एक ही बाइक पर काम भी करते थे, इससे हम दोनों को ही कम ख़र्च में काम चल जाता था.

इसी तरह साल भर गुज़र गया.

फिर एक दिन उसने कहा कि अब उसकी शादी होने वाली है उसे इसलिए एक बड़ा फ्लैट किराए लेना होगा, क्योंकि इस घर में बाथरूम व टायलेट सब कॉमन थे.
इसलिए उसने एक बुजुर्ग परिवार जिनके सभी बेंगलुरु में रहने लगे थे, उनका घर किराये से ले लिया.

मुकेश कुमार की शादी में मुझे भी बुलाया था. पर दरभंगा बहुत दूर था और मेरी कंपनी की मीटिंग के कारण मैं उसकी शादी में नहीं जा पाया. खैर वो 15 दिन की छुट्टी में शादी व हनीमून निपटाकर वापस अपनी पत्नी के साथ बालघाट आ गया. मैं अपने अगले टूर पर जब बालाघाट गया तो एक होटल में रुका और शाम को मुकेश के घर गया.

उसकी बीवी निशा एकदम सुंदर गोरी लगभग 34-24-34 का फ़िगर था, यानि कि कोई भी आदमी पहली नज़र में ही घायल हो जाये..