दोस्तो, क्या हाल चाल है आपका? मैं शिवाली ग्रोवर हूँ. मैं लुधियाना से हूं.
मेरी पिछली कहानी थी
मॉडलिंग की लालच में मेरी बहन चुद गई
मुझे मेरे किसी दोस्त ने ई-मेल से एक कहानी भेजी है. मुझे यह कहानी काफी रोचक लगी इसलिए मैं उसकी तरफ से ये कहानी आपके लिये पेश कर रही हूं. अब आगे की कहानी आप मेरे दोस्त केशव की जुबानी ही सुनिये.

दोस्तो, मेरा नाम केशव है. मेरी उम्र 21 साल है. मेरे पिताजी का नाम जय प्रकाश भारद्वाज है जो 50 साल के करीब हैं. मेरी माताजी का नाम नीलम भारद्वाज है जो 47 साल की हैं.

मेरी एक बड़ी दीदी है जिसकी उम्र 23 साल है. मेरी दीदी का नाम आरती भारद्वाज है. हमारा परिवार हिमाचल प्रदेश से बिलॉन्ग करता है. किंतु हम भाई-बहन का जन्म लुधियाना में ही हुआ था.

मेरे परिवार के सारे ही सदस्य देखने में काफी अच्छे हैं. मेरे पापा 5.8 फीट की हाइट के एक अच्छे व्यक्तित्व वाले पुरूष हैं. उनका स्वभाव काफी रौबदार है. वो अपना खुद का बिजनेस करते हैं. उनकी एक गारमेंट शॉप है. वो लेडीज़ फेंसी और गर्ल्स फेशनेबल गारमेंट्स में डील करते हैं. उनका एक बड़ा शोरूम है.

मेरी दीदी वेटनरी साइंस में डॉक्टर है. अभी उसकी स्टडी पूरी ही हुई है. कुछ दिन पहले ही मेरी दीदी की नई नई नौकरी लगी है. जहां तक मेरी पढ़ाई की बात है तो मैंने कंप्यूटर साइंस में डिग्री की हुई है.

हम भाई-बहन को हमारे परिवार की तरफ से सब तरह की आजादी है. दोस्तों के साथ घूमना हो या फिर मूवी देखने के लिए जाना हो किसी चीज की कोई रोक-टोक नहीं है.

मेरी हाइट 5 फीट 7 इंच है और जबकि मेरी दीदी आरती की हाइट 5 फीट 6 इंच है. हम दोनों भाई बहन एक जैसे ही दिखते हैं. दोनों को ही शुरू से ही जिम जाने का शौक रहा है.

हम दोनों ही दिखने में काफी स्मार्ट हैं. दीदी के फीगर की बात करूं तो उसके बूब्स का साइज 36 का है जबकि उसके हिप्स 38 के हैं. मेरी दीदी को मैंने कभी भी सेक्स की नजरों से नहीं देखा था. हालांकि वो मेरे सामने शॉर्ट स्कर्ट में या शॉर्ट निक्कर में भी रहती थी. हम ऐसे ही शॉर्ट कपड़ों में खेलते रहते थे. हंसी मजाक भी करते थे.

मेरे पापा की शॉप में गर्ल्स के लिए हमेशा लेटेस्ट कलेक्शन होती है तो आरती हमेशा लेटेस्ट कलेक्शन की ड्रेस पहनती थी. फिर भी मैंने उसके सेक्सी फीगर कभी इतना ज्यादा नोटिस नहीं किया था.